Homeराजनितिपत्रकारों के सवाल से घबराकर भागे भाजपा के क्षेत्रीय प्रभारी संजय राय

पत्रकारों के सवाल से घबराकर भागे भाजपा के क्षेत्रीय प्रभारी संजय राय

भाजपा के केन्द्रीय कार्यालय के उद्घाटन अवसर पर आयोजित प्रेसवार्ता से गायब रहे सासंद उपेन्द्र सिंह रावत, बना चर्चा का केन्द्र

धारा लक्ष्य समाचार पत्र

बाराबंकी। भारतीय जनता पार्टी द्वारा आज लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के केन्द्रीय कार्यालय कांशीराम कालोनी के ठीक पीछे, आवास विकास कालोनी में कार्यालय के उद्घाटन अवसर पर आयोजित प्रेसवार्ता में क्षेत्रीय प्रभारी संजय राय मीडिया से रूबरू होने के लिए आये, पहले तो बड़ी लम्बी भाषणबाजी पेश किया, जिसको मौजूद पत्रकारों ने शांति पूर्वक सुना, लेकिन जैसे ही पत्रकारों ने अपने सवाल दागे तो प्रभारी अपने को बचाते हुए बगल के बने कमरे चले गये। वहीं भाजपा प्रत्याशी राजरानी रावत सिर्फ मीटिंग में बैठी रहीं न कोई जवाब दिया और न ही मीडिया के सामने एक शब्द बोला, सिर्फ मंद-मंद मुस्कुराती रहीं।

वार्ता में श्री राय ने कहा कि आपकी बात नहीं समझ में आ रही है, देश में बेरोजगारी बहुत हैं के सवाल पर क्रोधित होकर जवाब दिया कि रोजगार जनता का मुद्दा नहीं है ? आराम से रहिए, देखिए मास्टर प्लान बहुत हैं, सबको रोजगार मिल रहा है। केन्द्र सरकार हर वर्ष दस लाख लोगों को रोजगार दे रही है, भारत में जनसंख्या बहुत हैं, केवल सरकारी नौकरी रोजगार का पर्याय नहीं हो सकती, प्राइवेट सेक्टर में नौकरी है, स्टार्टअप में रोजगार है, अरबो रूपये सरकार ने स्टार्टअप पर खर्च किया है, विभिन्न माध्यमों से रोजगार दे रही है, जो रोजगार कर रहे हैं उनको कच्चे माल की उपलब्धता कराई जा रही है, कच्चे तैयार माल की मार्केटिंग किया है, प्रोडक्टों को जियो टैग दिया, मोदी जी के प्रयास से उत्तर प्रदेश में काफी रोजगार है, रोजगार का मुद्दा भ्रष्टाचारियों का है, जनता में रोजगार को लेकर कोई मुद्दा नहीं है। मोदी और योगी बहुत ईमानदार है,

जो भी भ्रष्टाचार करेगा उस पर कार्यवाही होगी। भाजपा 21 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा से बाहर लाई है, जितने लोगों को सुविधाएं मिल रही है वह डायरेक्ट मिल रही है, बीच में कोई बिचैलिया नहीं है। बाराबंकी में गठबंधन के सवाल पर कहा कि गठबंधन हमारे लिए चुनौती नहीं, भाजपा अपने गठबंधन के साथ बहुत मजबूती से लड़ रही है, अखिलेश यादव को बार-बार प्रत्याशी बदलना पड़ रहा है। तभी लोगों में चर्चा होने लगी कि यहां भी तो लगभग एक माह बाद प्रत्याशी को बदलना पड़ा था। जैसे ही पत्रकारों से सवाल किया कि भाजपा के घोषित प्रत्याशी वर्तमान में जिला पंचायत अध्यक्ष हैं इनकी बोर्ड की बैठकों में काफी हंगामा होता रहा है कैसे यह जनपद का विकास करेंगी तथा सदस्य लोग भ्रष्टाचार को लेकर काफी आरोप लगाते हैं जिस पर क्षेत्रीय प्रभारी ने चुप्पी साध ली, और उल्टे पत्रकार से सवाल करने लगे कि तुम्हारा नाम क्या है? तभी दूसरे सवाल पर उनको कुछ सुनाई ही नहीं दिया, और अपने मन मर्जी की भड़ास निकालते नजर आये, फिर धीरे से हाथ जोड़कर बगल के बने कमरे में सभी के साथ चले गये। पूरी प्रेसवार्ता में काफी गहमा गहमी का माहौल था, न उचित साउण्ड की व्यवस्था थी और न ही सभी के लिए बैठने की व्यवस्था, और न ही पत्रकारों को शीतल जल ही उपलब्ध कराया गया, और तो और पत्रकारों के बैठने के स्थान से पंखे नदारत थे, भीषण गर्मी में पत्रकार जैसे तैसे बैठे रहें।


बैठक में राज्यमंत्री सतीश चन्द्र शर्मा, हैदरगढ़ विधायक दिनेश रावत, भाजपा जिलाध्यक्ष अरविन्द मौर्या, पूर्व जिलाध्यक्ष शशांक कुशमेश, पूर्व विधायक शरद अवस्थी, मीडिया प्रभारी विजय आनन्द बाजपेई, एमएलसी अंगद सिंह, अधिवक्ता सुनीत अवस्थी, एडवोकेट अनूप यादव आदि तमाम पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

बाक्स
गायब रहे सांसद उपेन्द्र सिंह रावत, होती रही चर्चाए!

भाजपा द्वारा आयोजित प्रेस वार्ता में वर्तमान सांसद उपेन्द्र रावत सिंह गायब दिखे, मालूम हो कि पहली सूची में वर्तमान सांसद का नाम फिर से घोषित किया था, लेकिन दूसरे ही दिन उनका एक कथित आपत्तिजनक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसको लेकर जनपद तो छोड़ दीजिये पूरे प्रदेश व देश में चर्चा का केन्द्र बन गया था वीडियो। उसके बाद श्री सिंह ने अपना बयान जारी किया है जब तब मैं निर्दोष नहीं साबित हूंगा तब तक सार्वजनिक जीवन में कोई चुनाव नहीं लडूंगा। उसके एक माह बाद पार्टी आलाकमान द्वारा यहां से उनकी जगह पर राजरानी रावत को टिकट दिया है। लेकिन आज की बैठक में सांसद उपेन्द्र सिंह की अनुपस्थिति की लोगों में चर्चा होती रही।

RELATED ARTICLES

Most Popular