Homeस्वास्थशिशुओं एवं गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण

शिशुओं एवं गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण

झांसी

मऊरानीपुर । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊरानीपुर द्वारा ग्राम पंचायतों में चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान के तहत खिलारा, नयागांव, खरकामाफ, सितौरा, बम्हौरी आदि ग्रामों में स्वास्थ्य विभाग की टीमों द्वारा शिशुओं के साथ गर्भवती महिलाओं का भी टीकाकरण किया गया। बुधवार को आंगनबाड़ी केंद्र खिलारा में एएनएम रजनी पटेल, आशा बहू द्रोपदी देवी द्विवेदी, रेखा देवी मिश्रा, आंगनबाड़ी कार्यकत्री अर्चना मिश्रा, सहायिका रेखा परिहार आदि द्वारा ग्राम की गर्भवती महिलाओं के अलावा बच्चों का टीकाकरण किया गया। इस दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊरानीपुर से पर्यवेक्षक के रूप में ग्राम खिलारा आये संजीव वर्मा एवं प्रवीण कुमार ने आंगनबाड़ी केंद्र पर चल रहे टीकाकरण का निरीक्षण करते हुए समीक्षा की।

टीवी रोग से ग्रसित रोगियों को किट का वितरण


मऊरानीपुर । राज्य स्तर पर पहली बार सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा टीबी रोग से ग्रस्तित रोगियों को मिश्रित पोषण किट का वितरण मुख्य अतिथि डॉ नसीब खान (लखनऊ ) एवं मऊरानीपुर चिकित्सा अधीक्षक डॉ आर जे सिंह की अध्यक्षता में गुरुवार को किया गया। जिसमें आयोजित कार्यक्रम के दौरान चिकित्सों ने टीबी की बीमारी से पीड़ित रोगियों को टीबी रोग के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि टीबी क्या है यह कैसे फैलती है तथा इससे बचा कैसे जा सकता आदि के संबंध में विस्तृत जानकारियां दी गई। इस दौरान जावेद अली, सीएचओ अखिलेश यादव, समर, माधुरी, स्वाती यादव, मनफूल, सूर्यकांत त्रिपाठी, प्रफुल्ल श्रीवास्तव, जुबेर अंसारी, भूपेंद्र सिंह, डॉ रविंद्र गुप्ता, डॉ ऊदल श्रीवास, राजेश नामदेव, रजनी साहू आदि मौजूद रहे।

वेमौसम बारिश व ओला वृष्टि से किसानों की फसलों में नुकसान

मऊरानीपुर। इस वर्ष भी मटर, मसूर, लाही, गेहूं, जौ की फसलों में सर्वाधिक नुकसान पहुंचने से रबी की फसलें खेतों में ही नष्ट हो जाने से क्षेत्र के किसानों को थोड़ी बहुत उम्मीद चना की फसल से लगी थी। कि नुक्सान की भरपाई चना की फसल से थोड़ी बहुत हो जायेगी जिससे साल भर के लिए चुना की दाल तो हो ही जायेगी। लेकिन इस वर्ष बार बार मौसम का विपरीत प्रभाव पड़ने के चलते चना की फसल में भी अभी तक फूल नही आने के कारण से उसमें अभी तक फल नही लग सके है। जबकि अब फूलने फलने का समय भी निकल चुका है जिससे क्षेत्र के किसानों को चना की भी फसल के हाथ धोना पड़ा है। खिलारा, भण्डरा, बसरिया, धायपुरा, नयागांव, बरुआमाफ, देवरीघाट, पुरवा, सितौरा, खरकामआफ, घाटकोटरा , कदौरा, भानपुरा, कुअरपुरा, बिरगुआं, खकौरा, पठा, ढ़करवारा, हरपुरा, पंचमपुरा, टकटौली, मैलवारा, मथूपुरा, चुरारा, बख्तर, कैलुआ बीरा, धोर्रा, कंजा, चितावत सिगरवारा, हीरापुर, रौनी, बड़ागांव , बुखारा, भदरवारा, पिपरोखर आदि ग्रामों के किसानों का कहना है कि एक, दो, तथा तीन मार्च को हुई अनावृष्टि, तेज हवा चलने के साथ ओलावृष्टि होने से दलहनी, तिलहनी, गेहूं, जौ आदि रबी सीजन वाली फसलें खेतों में ही नष्ट हो चुकी है अब चना की फसल ने भी धोखा दे दिया है। उपरोक्त ग्रामों के किसानों का कहना है कि बेमौसम बारिश तथा ओलावृष्टि से प्रभावित ग्रामों के किसानों को उम्मीद थी कि समय से सभी किसानों को मुआवजा राशि बैंक खातों के माध्यम से शासन द्वारा पहुंचा दी जायेगी। लेकिन दस दिन का समय निकल गया है और किसानों इंतजार है कि कब हमारे नाम की धनराशि कब आयेगी। वही ग्राम पंचायत ढ़करवारा के प्रधान अशोक कुशवाहा ने बताया कि ग्राम के साढ़े आठ सौ से अधिक किसानों के खातों की फीडिंग का काम पूरा हो चुका है जिसमें से 250 से अधिक किसानों के खाते में धनराशि भी हस्तांतरित हो गई है।

RELATED ARTICLES

Most Popular